Lecturer LB TO BEO,,,, व्याख्याता LB बना बीईओ ,,,,.शिक्षक संघ द्वारा विरोध शुरू ,,,सहायक शिक्षक और शिक्षक LB को भी मिलेगा पदोन्नति और क्रमोन्नति का लाभ।



शिक्षकों की जानकारी  -INFORMATION OF TEACHERS 
स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा अभी हाल में कई विभागों के हजारों कर्मचारियों का तबादला किया गया है। जिसमे अधिकतर तबादला प्रशासनिक स्तर पर किया गया है। साथ ही जो तबादला किया गया है उसमे कुछ अधिकारी वर्ग के पदों में बदलाव किया गया है जैसे की कई जगह प्राचार्यों को विकासखंड शिक्षा अधिकारी तो कही विकासखंड शिक्षा अधिकारी को प्राचार्य बनाया गया है। 
लेटेस्ट अपडेट  के लिए व्हाट्सएप्प ग्रुप ज्वाइन करें 
आपको आज के इस आर्टिकल में स्कूल शिक्षा विभाग में हुए तबादले और उस तबादला में कई अनियमितताओं के बारे में बताने वाले है। आप ये आर्टिकल बहुत ध्यान से और पूरा पढ़ें। साथ ही आपको इस आर्टिकल में शिक्षा विभाग और शिक्षकों से सम्बंधित बहुत सी जानकारी भी बताया गया है जिसे आप ऑनलाइन देख सकते है। 


शिक्षक ट्रांसफर सूचि एवं पदस्थापना सूचि -1 
शिक्षक ट्रांसफर सूचि एवं पदस्थापना सूचि -2 
शिक्षकों से सम्बंधित सभी लिंक आपको इसी पोस्ट में दिया गया है। आपको जो लिंक दिया गया है वह लिंक ब्राउन कलर में लिखिओ लाइन है। दोस्तों ये इंडिकेशन इसलिए बताया जा रहा है क्योंकि बहुत से साथियों को इसके बारे में पता नहीं होता है और वे अक्सर पूछते है की इसमें तो किसी प्रकार की सूचि या लिस्ट नहीं है कैसे देखें। तो आपको बता दें की जो भी जानकारी आपको देखना है उसका लिंक ब्राउन कलर के लाइन में लिखी हुई मिलेगी और ये सब आपको इसी आर्टिकल से मिलेगी। 


जैसे की आपको मालूम होगा अभी हाल ही में राज्य स्तर से जारी तबादला सूचि में एक व्याख्याता एल बी को प्राचार्य बनाया गया है ये प्रशासनिक स्तर का मामला है। व्याख्याता द्वितीय श्रेणी का राजपत्रित अधिकारी होता है। और उन्हें बीईओ बनाया जा सकता है। लेकिन अन्य शिक्षक संघ द्वारा इसका विरोध शुरू हो गया है। आखिर विरोध क्यों हो रहा है और इसका कारण क्या है इसके बारे में आपको आगे बताया गया है। आप जरूर देखें।
READ MORE -10 वर्ष पूर्ण कर चुके शिक्षाकर्मियों को क्रमोन्नति का लाभ ,,,,मार्गदर्शन जारी ,,देखें क्या लिखा है पत्र में 
दरअसल मामला बिलासपुर जिले के गौरेला ब्लॉक का है। जैसे आपको मालूम ही होगा की जिले के सभी ब्लॉकों के विकासखंड शिक्षा अधिकारी का तबादला किया गया है जिसमे कुछ नए विकासखंड शिक्षा अधिकारी भी बनाये गए है तो कुछ को इधर से उधर किये गए है और कुछ अधिकारी को प्राचार्य भी बनाया गया है। इसी क्रम में गौरेला ब्लॉक के शाउमा विद्यालय पाकलिया में पदस्थ व्याख्याता एल बी गिरीशचंद्र लहरे को गौरेला ब्लॉक के बीईओ बनाया गया है। आपको तबादला सूचि निचे दिया गया है। 


शिक्षकों द्वारा किया जा रहा विरोध - जैसे की अभी व्याख्याता LB को शासन स्तर से बीईओ बनाया गया है जिसका अन्य नियमित शिक्षक संघ द्वारा विरोध किया जा रहा है। उनका तर्क है की व्याख्याता LB को अभी शिक्षा विभाग में संविलियन हुए केवल एक वर्ष हुआ है ऐसे में उनकी सेवा शिक्षा विभाग में केवल एक वर्ष मानी जाये। यदि ऐसा हुआ तो एल बी संवर्ग को किसी भी प्रकार का लाभ जैसे पदोन्नति ,क्रमोन्नति लेने के लिए 5 से 10 वर्ष का इन्तजार यहाँ से और करना होगा। कई LB शिक्षक रिटायर हो जायेंगे। 
बीईओ बनने के लिए सीनियर प्राचार्य होना अनिवार्य - बीईओ बनने के लिए वैसे तो पांच साल प्राचार्य होना जरुरी है लेकिन शासन स्तर से व्याख्याता एल बी को बीएओ बनाया गया है। अब इसका मापदंड क्या निर्धारित करके बीईओ बनाया गया है  ये शासन स्तर का मामला है। साथ ही ये शासं का आदेश है जिसे अधिकारीयों को पालन करना ही होगा।और अगर ऐसा कोई प्रावधान नहीं है तो भी इसका समाधान शासन स्तर ही होगा। 
व्याख्याता एल बी भी 20 वर्षों से शिक्षकीय कार्य में -जैसे की आपको मालूम ही है की जो अभी व्याख्याता एल बी है वे 20 वर्षों से शिक्षाकर्मी के रूप में स्कूलों मेंशिक्षक के दायित्व का निर्वाहन किये है जैसे की अन्य नियमित शिकसहक किये है। और वर्षों के संघर्ष के परिणाम स्वरुप शिक्षाकर्मियों का संविलियन शिक्षा विभाग में किया गया है। अब यहाँ तर्क इस बात का है की क्या 20 वर्षों को शासन द्वारा कोई महत्व नहीं दिया जायेगा या फिर इन 20 वर्षों के सेवा का फायदा शिक्षक एल बी संवर्ग को लाभ मिलेगा। 
शिक्षा कर्मी के रूप में सेवा का लाभ संविलियन के बाद भी  - यदि शासन शिक्षाकर्मियों के पूर्व सेवा का लाभ संविलियन होने के बाद भी देती है तो बहुत मामलों में एल बी संवर्ग को फायदा मिलेगा। जैसे पदोन्नति, क्रमोन्नति ,संस्था प्रमुख जैसे बहुत से लाभ मिल जायेगा। और ऐसा होना भी चाहिए क्योंकि शासन शिक्षाकर्मियों के लिए संविलियन का दायरा आठ वर्ष निर्धारित किया है जिसमे आठ वर्ष होने के बाद ही उन्हें आर्थिक लाभ मिलेगा। लेकिन अन्य लाभ के लिए पूर्व सेवा की गणना की जनि चाहिए। क्योंकि किसी भी कर्मचारी के लिए 20 वर्ष की सेवा काफी लम्बी अवधि होती है ,,और यदि ये अवधि शून्य मन लिया जाये तो एक कर्मचारी के साथ बहुत ज्यादा अन्याय है। 
सहायक शिक्षक और शिक्षक को भी मिलेगा लाभ - जिस प्रकार से शासन स्तर पर व्याख्याता एल को बीईओ बनाया गया है इसमें जरूर शासन का कुछ नेक मंशा होगा जिसमे हो सकता है पूर्व सेवा काल को भी लिया  हो ,,,,,ऐसे में अब सहायक शिक्षक और शिक्षक LB संवर्ग को भी लाभ मिल सकता है और उन्हें प्राथमिक और मिडिल स्कूल के प्रधानपाठक बनाया जाना चाहिए।  उन्हें पदोन्नति और क्रमोन्नति का लाभ मिलना चाहिए। शासन स्तर से इस प्रकार का आदेश भी जारी किया जा चुका है। निचे लिंक से देखें आदेश क्या है ?



शिक्षकों की अन्य महत्वपूर्ण जानकारी सबसे पहले प्राप्त करने के लिए  हमारे ऑफिसियल वेबसाइट WWW.ONLINEBHARO.COM पर विजिट करें। 
अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी जरूर पढ़ें 

Post a Comment

0 Comments