शिक्षाकर्मी वर्ग -3 /सहायक शिक्षक का इस्तेमाल भीड़ बढ़ाने के लिए किया जाता है। सबसे ज्यादा नुकसान में है सहायक शिक्षक -शिक्षा कर्मी वर्ग -3



शिक्षा कर्मी वर्ग 3 / सहायक शिक्षक  एक बार इस पोस्ट को अवश्य पढ़ें और उसके बाद निर्णय लें कि उन्हें क्या करना है ?????
नमस्कार दोस्तों onlinebharo.com  में आपका स्वागत है। फ्रेंड्स जैसे की आप जानते है की हमारे इस वेबसाइट के माधयम सभी प्रकार के ऑनलाइन और ऑफलाइन जानकारी दिया जाता है। फ्रेंड्स हमारे वेबसाइट में शिक्षा विभाग और शिक्षकों के बारे में भी लगातार अपडेट दिया जाता है।

यदि आप सम्बंधित जानकारी की अपडेट लेना चाहते है तो आप सीधे हमरे वेबसाइट को google में सर्च करें। आपको google में सर्च करना है onlinebharo.com फ्रेंड्स आप इस प्रकार सर्च करके सीधे हमारे वेबसाइट में जा सकते है।


फ्रेंड्स आपको आज हम शिक्षा कर्मी वर्ग -03 के साथियों के बारे में जानकारी देने वाले है। आपको यहाँ बताएँगे कि ,किस प्रकार आज भी शिक्षा कर्मी वर्ग तीन का केवल शोषण हो रहा है।

बजट 2020-21 में भी सहायक शिक्षक की उपेक्षा की गयी है जिससे सहायक शिक्षकों में काफी निराशा है,क्योंकि वेतन विसंगति ,क्रमोन्नति और पदोन्नति की आस लगाए सहायक शिक्षकों को कुछ भी नहीं मिल रहा है।


जी हां फ्रेंड्स यदि आप भी शिक्षा से जुड़े है या फिर आप भी यदि वर्ग -3 में पदस्थ है तो आपको ये बात बहुत ही अच्छे से मालूम होगा। फिर भी हम आपको कुछ ऐसे जानकरी के बारे में अवगत कराना चाहते है जो आपको जानना बहुत जरुरी है।

वर्ग-3 का उपयोग भीड़ के लिए किया जाना 

आज 20 वर्ष की लंबी लड़ाई के बाद भी  हमें चैन और सुकून नहीं है हम जीत कर भी खुद को हारा हुआ महसूस करते हैं और जब-जब टेबल पर चर्चा हुई तो जिनके हितों को लेकर सबसे अधिक समझौता हुआ वह केवल और केवल वर्ग 3 के साथी हैं और इसकी सबसे बड़ी वजह यह है की तत्कालीन नेतृत्वकर्ताओं ने  केवल और केवल अपने हित को साधा और वर्ग 3 को भीड़ की तरह उपयोग किया।

एक बार फिर वही कोशिश उन्हीं नेताओं के द्वारा की जा रही है जिसमें सबसे अग्रिम पंक्ति पर है वह नेता जो कभी क्रमोन्नति फॉर्म भराने के नाम पर चंदा वसूली करता है तो कभी सदस्यता शुल्क के नाम पर....... जिसने खुद तो आलीशान घर बना लिया गाड़ी घोड़ा खरीद लिया बैंक बैलेंस बना लिया लेकिन कभी भी अपने साथियों के लिए कुछ नहीं सोचा जिसने हर बार निर्णायक मौके पर शासन प्रशासन से समझौता करके वर्ग 3 की पीठ पर चाबुक बरसाया और उनका सौदा किया वर्ग -3  दोनों तरफ से ठगाते रहे ..... क्योंकि जिसको वर्ग -3  अपनी तरफ से नेतृत्व करने के लिए आगे किया था वही उनका  सौदागर था ..... जिसने उन्हें  एक से बढ़कर एक सपने दिखाए लेकिन हर बार हमें धोखा ही मिला ।

मध्यप्रदेश में क्रमोन्नति ,पुरानी सेवा की गणना 


साथियों एक ही साथ दो राज्यों में शिक्षाकर्मी भर्ती शुरू हुई आज मध्य प्रदेश के साथियों के पास क्रमोन्नत वेतनमान है सभी साथियों के पास संविलियन है बेहतर स्थानांतरण नीति है  पुरानी सेवा की गणना है और हमारे यहां मिला हुआ क्रमोन्नत वेतनमान छीन लिया गया, छिने हुए वेतनमान के लिए तो विरोध नहीं किया गया उल्टा उसके नाम पर फॉर्म भर- भर कर वसूली की गई वह भी अपने ही साथियों से और फॉर्म को ले जाकर कहां डंप किया गया किसी को आज तक खबर नहीं ।

चाहे मामला पुनरीक्षित वेतनमान का हो या संविलियन का, 8 वर्ष का बंधन जबरदस्ती लादा गया उसे नहीं हटवा सके और हमारे साथी उस पीड़ा को जीने को मजबूर है।पुरानी सेवा की गणना नहीं हो रही है पंचायत विभाग में दी हुई सेवा का कोई मतलब ही नहीं है वह शुन्य हो गया और इसके बाद भी नेता जी  खुद को योद्धा समझ रहे हैं। 

एक बार फिर जाल बिछाया जा चुका है क्रमोन्नत और पुरानी पेंशन के नाम पर आपको तय करना है कि फिर एक बार आप इस जाल में फसेंगे या फिर ऐसे नेता को आईना दिखाएंगे ।

इस बार नेतृत्वकर्ता हमारे बीच से होना चाहिए कोई ऐसा नही जो पैसों के लिए हमें बेच खाए, बल्कि ऐसा जो सबके हित के लिए स्वयं के लाभ - हानि की परवाह किए बगैर सरकार से भिड़ जाए।
वर्ग 3 के साथ ही यदि अपना हित चाहते हैं तो इस पोस्ट को हर वर्ग 3 के साथी के पास जरूर पहुंचाएं।

वर्ग तीन को प्रतिमाह 10 से 12 हजार आर्थिक नुक्सान 


फ्रेंड्स जैसे कि आपको मालूम ही है कि शिक्षा कर्मी वर्ग 3 /सहायक शिक्षक  को प्रतिमाह भरी आर्थिक नुक्सान उठाना पड़ रहा है। इसका कारण ये है कि जब वेतन निर्धारण किया गया तो शिक्षा कर्मी वर्ग -2 और वर्ग -1 का वेतन समतुल्य रखा गया लेकिन वर्ग -3 का वेतन निर्धारण ऐसे किया गया कि यह तुलनात्मक भी नहीं रहा।

फ्रेंड्स आपको मालूम होगा वर्ग -2 का बेसिक 9300 और ग्रेड पे -4200 रखा गया एवं वर्ग -1 का बेसिक 9300 और ग्रेड पे -4300 जबकि वर्ग -3 का बेसिक -7440 और ग्रेड पे -2400 निर्धारित की गयी।

यहाँ आप देख सकते है कितना खाई है। फ्रेंड्स इस अनियमित वेतन निर्धारण को तब किसी नेता ने सुधरवाने की कोई कोशिस नहीं की। जिसका परिणाम आज वर्ग -3 के सठोयें को भुगतना पड़ रहा है।

फ्रेंड्स आज के इस आर्टिकल में आज आपको वर्ग -3 के शिक्षक साथियों से सम्बंधित कुछ आंकड़े साझा किये है। जो की कटु सत्य है। ये सभी को मालूम है।  और आज इस असमानता को दूर किया जाना बहुत जरुरी है। इसके लिए वर्ग -3 के साथियों को एकजुट होना नितांत जरुरी है।

फ्रेंड्स हमारे द्वारा दिए गए जानकारी  कोई व्यक्ति विशेष के लिए नहीं है। ये केवल सामाजिक असमानता को लोगो तक पहुंचाना और इस प्रकार की अव्यवस्था को दूर करके समाज में समानता लाना है। ये तभी संभव है जब समाज के हर वर्ग इसको समझे और इस असमानता को दूर करने में अपना योगदान दे।

साथियों आज का यह जानकारी यदि आपको अच्छा लगा हो तो अन्य लोगों में शेयर करना बिलकुल न भूलें। आप यह सन्देश सभी लोगों तक पहुंचाए जिससे लोग इस प्रकार की अनियमित व्यवस्था के खिलाफ आवाज उठा सके और समाज में समानता ला सकें। ..धन्यवाद। .
.
सम्बंधित अन्य जानकारी के आप google में सर्च करें -onlinebharo.com 

ये जानकारी भी पढ़ें 


लेटेस्ट अपडेट के लिए हमारे WHATSAPP ग्रुप ज्वाइन करें 
👉JOIN WHATSAPP GROUP   

Post a Comment

3 Comments

  1. Jabki varg 3 sabse jyada mehnat karte hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. Pad ke aadaar par vetanmaan nirdharit hota hai bhai sahb n ki kaam se.

      Delete
  2. क्या क्या गलत है ये आपने बेहतरीन तरीके से बताया। आपको साधुवाद।
    अब इसे सही कैसे किया जा सकता है कृपया ये भी बताएं।

    ReplyDelete