स्थानांतरण प्रमाण पत्र क्या है और कैसे बनाया बनाया जाता है ? Transfer Certificate (T.C.) Importance ,Format And How Is It Filled and Issue

 Transfer Certificate (स्थानांतरण प्रमाण पत्र) कैसे जारी करें ?

स्थानांतरण प्रमाण पत्र (Transfer Certificate) एक बहुत ही महत्वपूर्ण और आवश्यक दस्तावेज है। स्कूल के संस्था प्रधान द्वारा किसी छात्र /छात्रा या अभिभावक द्वारा लिखित आवेदन प्रस्तुत करने पर  जाता है। 

आज के आर्टिकल में स्थानांतरण प्रमाण पत्र क्या है ? और इसे कैसे जारी किया जाता है ? इसकी पूरी जानकारी बताया गया है। साथ ही ट्रांसफर सर्टिफिकेट का क्या महत्व है और TC जारी करने में क्या क्या सावधानी रखनी चाहिए इसके बारे में भी बताया गया है। 


यदि आप  एक शिक्षक है और अपने स्कूल में स्थानांतरण प्रमाण पत्र जारी करते है तो आपको ये आर्टिकल जरुर पढ़ना चाहिए ,यहाँ कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर फोकस  किया गया है ,जो सभी शिक्षकों के लिए महत्वपूर्ण है। 

स्थानांतरण प्रमाण पत्र- Transfer Certificate 

स्थानांतरण प्रमाण पत्र एक अत्यंत महत्वपूर्ण दस्तावेज है। एक स्कूल से दूसरे स्कूल में प्रवेश लेने के लिए यह अनिवार्य डाकुमेंट है ,इसके आभाव में विद्यार्थी का एडमिशन प्रभावित हो सकता है। 

स्थानांतरण प्रमाण पत्र को शाला प्रमुख द्वारा किसी छात्र /छात्रा या उसके माता -पिता या अभिभावक  द्वारा लिखित आवेदन प्रस्तुत करने पर जारी किया जाता है। 

इसे पढ़ें - कैश बुक क्या है ? कैश बुक कैसे भरें ? भरे हुए कैश बुक देखें 

यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण दस्तावेज है ,इसी के आधार पर विद्यार्थी को अन्य शाला में प्रवेश दिया जाता है। इसके अलावा इस दस्तावेज को न्यायिक प्रकरण ,चुनाव कार्य एवं अन्य कार्यों में उपयोग किया जा सकता है। 

चूँकि ट्रांसफर सर्टिफिकेट एक महत्वपूर्ण और संवेदनशिल दस्तावेज है अतः इसे जारी करने के पहले संस्था प्रमुख को इसके सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए और सस्था के दाखिल खारिज रजिस्टर से पूरी तरह मिलान करते हुए जारी किया जाना चाहिए। 

TC जारी करते समय रखें ये सावधानी 

जैसे कि आपको बताया गया है कि स्थानांतरण प्रमाण पत्र एक महत्पूर्ण और आवश्यक दस्तावेज है। अतः इसे जारी करते समय संस्था प्रमुख को काफी सावधानी रखने की आवश्यकता है। 

TC जारी करते समय ये सावधानी अवश्य रखें 

  • विद्यार्थी की जन्मतिथि दाखिल ख़ारिज पंजी के अनुसार ही मिलान करते हुए लिखें। 
  • ध्यान रखें कि विद्यार्थी की जन्मतिथि कक्षा उपस्तिथि पंजी ,परीक्षा परिणाम रजिस्टर ,दाखिल ख़ारिज रजिस्टर और प्रगतिपत्रक और टीसी में मेल खाता हो। 
  • उक्त अभिलेखों में काट छांट नहीं करनी चाहिए। 
  • टीसी जारी करने के पहले विद्यार्थी या उनके अभिभावक/माता -पिता से लिखित आवेदन जरूर लें जिसमे कारण का उल्लेख हो। 
  • यदि विद्यार्थी से सम्बंधित किसी अभिलेख में काट छांट हो तो वहां पर संस्था प्रधान की मोहर और हस्ताक्षर होनी चाहिए। 
  • स्थानांतरण प्रमाण पत्र में वर्तमान कक्षा और परीक्षा परिणाम स्पष्ट रूप से अंकित हो। 
  • यदि कोई छात्र सत्र के बीच में टीसी लेते है है तो परीक्षा परिणाम में अध्ययनरत लिखा जाना चाहिए। 
  • टीसी जारी करते समय टीसी पुस्तिका के प्रतिपर्ण में टीसी प्राप्त करने वाले हस्ताक्षर करवाएं और दिनांक जरूर लिखें। विद्यार्थी के अलावा कोई अन्य हो तो उनका रिस्ता लिखें। 

स्थानांतरण प्रमाण पत्र (T.C.) जारी करने की प्रक्रिया 


स्थानांतरण प्रमाण विद्यार्थी द्वारा विद्यालय छोड़ने का प्रमाण पत्र है ,इसलिए इसे जारी करने के पूर्व कुछ नियम और  प्रक्रिया का ध्यान रखें। प्रक्रिया बिंदुवार बताये गए है। 

1- विद्यार्थी या उसके माता पिता या संरक्षक का लिखित आवेदन पत्र प्राप्त करने के बाद ही स्थानांतरण प्रमाण पत्र जारी करने की प्रक्रिया शुरू करें। 

2- स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु निर्धारित शुल्क 5/- रूपये जमा कराएं और रसीद दें। यह कक्षा 9 वीं से 12 वीं कक्षा के छात्र /छात्रा के लिए लागु होगा। 

3- विद्यार्थी से नो ड्यूस प्रमाण पत्र भी लें। और ये सुनिश्चित कर लें कि छात्र ने स्कूल से सम्बंधित शुल्क या विद्यालय से प्राप्त सामग्री जमा कर दिया है। 

4-टीसी की मूल प्रति केवल बार ही जारी करें। यदि छात्र पुनः टीसी लेने आते है तो उनसे 10 /- रूपये शुल्क लेकर टीसी में द्वितीय प्रति लिखकर जारी कर सकते है। 

5-यदि छात्र किसी अन्य जिले में या राज्य में प्रवेश लेना चाहता है तो टीसी को  जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा प्रमाणित कराने की आवश्यकता होगी ,इसे विद्यार्थी को जरूर बताएं। जिससे अन्य जिले या राज्य में विद्यार्थी को आसानी से प्रवेश  मिल सके। 

6- टी सी जारी करने वाले रजिस्टर में विद्यार्थी की प्रविष्टि करें और छात्र उपस्थिति रजिस्टर से नाम ख़ारिज करें। 

7- टीसी जारी करने के बाद दाखिल ख़ारिज रजिस्टर में छात्र का नाम ख़ारिज करें और तिथि लिखें। टीसी जारी करने का कारन जरूर लिखें। 

8- छात्र से सम्बंधित सभी विवरण और रिकार्ड दुरुस्त है कि नहीं इसे चेक कर लें। किसी प्रकार की अपूर्णता हो तो उसे पूर्ण कर लें। 

9- शाला स्तर में कुछ और सावधानी हो तो उसे आप शामिल करें। 

Transfer Certificate (TC) का प्रारूप देखें 

चित्र में स्थानांतरण प्रमाण पत्र का प्रारूप दिया गया है। इस प्रारूप में कुल 25 बिंदु मार्किंग किये गए है। आपको सभी 25 बिंदुओं को क्रम से बताया गया है कि कौन से क्रमांक में क्या भरना है। सभी बिंदुओं को ध्यान से देखें। 

उदाहरण के रूप में हम कक्षा 9 वीं के छात्र को लेते है ,जिनका नाम अमन कुमार साहू है। ये  वर्तमान स्कूल में कक्षा 9 वीं उत्तीर्ण कर किसी अन्य स्कूल में पढ़ना चाहता है। चलिए आपको बताते है कि इसके लिए स्थानांतरण प्रमाण पत्र कैसे जारी करें। 

बिंदु क्रमांक 1 से 25 तक पूरी जानकारी देखें 

1 - क्रमांक  1 में विद्यार्थी का दाखिल क्रमांक (प्रवेश क्रमांक ) और दिनांक भरें। जब विद्यार्थी आपके स्कूल में प्रवेश लिया उस समय दिए गए कमांक ही बच्चे का प्रवेश क्रमांक है। 

2 - क्रमांक 2 में टीसी का क्रमांक लिखें अर्थात टीसी पुस्तिका में कौन से क्रमांक का टीसी है। और नीचे  करने का दिनांक लिखें। 

3 - क्रमांक 3 में शाला का पूरा नाम लिखें -जैसे शासकीय हाई स्कूल बिलासपुर। 

4,5,6 -  क्रमांक 4 ,5 और 6 में स्कूल जिस ग्राम ,तहसील और जिले में स्थित है उस ग्राम ,तहसील और जिले का नाम लिखें। 

7- क्रमांक 7 में विद्यार्थी का पूरा नाम लिखें (प्रवेश पंजी के अनुसार ) जैसे - अमन कुमार साहू। 

8 -क्रमांक 8 में विद्यार्थी के पिता का नाम लिखें ,जैसे श्री जनक राम साहू। 

9 -क्रमांक 9 में विद्यार्थी के माता का नाम लिखें ,जैसे श्रीमती अनामिका साहू। 

10 -क्रमांक 10 में विद्यार्थी के मूल जाती लिखें ,जैसे -तेली। 

11 - क्रमांक 11 में विद्यार्थी का प्रवेश तिथि लिखें। जैसे -18.06.2020 

12 - क्रमांक 12 में सत्र का आखिरी तारीख लिखें। जैसे - 30.04.2021 .

13 -क्रमांक 13 में भी सत्र का आखिरी तारीख लिखें। जैसे -30.04.2021 

14 - क्रमांक 14 में जिस तिथि को आप टीसी जारी कर रहे है उस तिथि को लिखें। जैसे यदि आप किसी विद्यार्थी को 20 जून 2021 को टीसी जारी करेंगे तो उसमे 20.06.2021 लिखें। 

15 - क्रमांक 15 में विद्यार्थी का प्रवेश क्रमांक /दाखिल क्रमांक (प्रवेश पंजी के अनुसार ) लिखें। जैसे - 354 

16 ,17 - क्रमांक 16 में विद्यार्थी की जन्मतिथि अंकों में जैसे -15.07.2005 और क्रमांक 17 में जन्मतिथि को शब्दों में लिखें ,जैसे - पंद्रह जुलाई सन दो हजार पांच। 

18 - क्रमांक 18 में विद्यार्थी जो परीक्षा उत्तीर्ण किया है उस कक्षा का नाम लिखें। जैसे कोई विद्यार्थी 9 वीं  तो नवमी लिखें। 

19 ,20 -क्रमांक 19 में  विद्यार्थी के अध्धयन का माध्यम जैसे -हिंदी /अंग्रेजी  लिखें। और क्रमांक 20 में परीक्षा उत्तीर्ण का वर्ष लिखें। 

21 - क्रमांक 21 में विद्यार्थी का नाम जिस कक्षा से ख़ारिज किया जा रहा है उस कक्षा का नाम लिखें। जैसे कोई विद्यार्थी कक्षा 9 वीं उत्तीर्ण करके आपके स्कूल से टीसी ले रहा है तो क्र 21 में कक्षा -नवमी लिखें। 

यदि विद्यार्थी अध्ययनरत है तो उसी कक्षा  लिखें जिसमे वह अध्धयन कर रहा है। 

22 - क्रमांक 22 में विद्यार्थी का आचरण लिखना है। इसमें आपको अच्छा लिखना है। 

23 -क्रमांक 23 में कक्षा शिक्षक  हस्ताक्षर करेंगे। 

24 -क्रमांक 24 में संस्था  के प्राचार्य /प्रधानपाठक सील लगाकर हस्ताक्षर करेंगे। 

25 -क्रमांक 25 में टीसी जारी करने का दिनांक लिखें। 

इस प्रकार ऊपर चित्र में डिकए गए टीसी के प्रारूप के अनुसार सभी 25 बिंदुओं को कैसे भरें इसकी पूरी जानकारी क्रम से बताया गया है। इसी प्रकार आप अपने स्कूल में मौजूद टीसी में भी विद्यार्थी की जानकारी भर सकते है। 

स्थानांतरण प्रमाण पत्र के लिए छात्र /छात्रा के माता पिता या संरक्षक द्वारा स्कूल के प्रधानाचार्य के नाम एक आवेदन पत्र लिखित में देना होता है। इस आवेदन का प्रारूप आपको नीचे बताया जा रहा है ,जरूर पढ़ें -


स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतू  आवेदन पत्र 


सेवा में ,

श्रीमान प्रधान पाठक /प्राचार्य महोदय 

शास. प्राथ /पूर्व मा / उच्च। माध्य विद्यालय 

 (विदयालय  का नाम ) ..............................


विषय - स्थानांतरण प्रमाण पत्र जारी करने हेतु  .


महोदय /महोदया ,

उपरोक्त विषयान्तर्गत सादर निवेदन है कि मेरे पुत्र /पुत्री .......(नाम ) ,,,,,,, (कक्षा )....... में अध्ययनरत है। मै तहसील ऑफिस में सहायक ग्रेड 2 कर्मचारी /प्राइवेट कर्मचारी हु ,और मेरा स्थानांतरण  /या कोई अन्य पारिवारिक कारण -से अन्य जगह (जगह का नाम) हो गया है। अतः मेरे पुत्र /पुत्री को वहां के विद्यालय में प्रवेश दिलाकर उनका पढ़ाई जारी रखना चाहता हु। 

मेरे पुत्र /पुत्री का सभी विद्यालय शुल्क जमा करवा दिया गया है और इनके पास विद्यालय  सम्बंधित कोई सामग्री शेष नहीं है। 

मै आपको यह आश्वस्थ करता हु कि अपने पुत्र /पुत्री की आगामी पढ़ाई जारी रखूँगा और विद्यालय को भविष्य में चाही गयी बच्चे की अध्ययन सम्बन्धी जानकारी और सुचना आपको प्रस्तुत कर दी जाएगी। 

अतः श्रीमान जी से निवेदन है कि मेरे पुत्र /पुत्री -- (नाम ) की स्थानांतरण प्रमाण पत्र (Transfer Certificate) और चरित्र प्रमाण पत्र अविलम्ब जारी करने की कृपा करें ,जिससे अन्य स्कूल में प्रवेश ले सकें। 

भवदीय 

माता -पिता /अभिभावक नाम एवं हस्ताक्षर 

पता -................................

मोबाइल नंबर -..................

बच्चे का नाम -..................

कक्षा -...................

आधार कार्ड नंबर -.................... 

दिनांक -...........

 यह आवेदन पत्र बच्चे के अभिभावक या माता -पिता द्वारा प्रस्तुत करने पर लागु होगा। यदि विद्यार्थी स्वयं आवेदन पत्र प्रस्तुत करता है तो उसका प्रारूप स्कूल में शिक्षकों द्वारा बताये अनुसार होगा। और उसमे भी पालक की सहमति जरूर लेंवे। 

आज के आर्टिकल में  स्थानांतरण प्रमाण पत्र क्या है और कैसे बनाया बनाया जाता है ? What Is Transfer Certificate (T.C.) And How  Is It  Filled and Issue  इसकी पूरी जानकारी दिया गया है। उम्मीद करते है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी। 

यदि आपको ये जानकारी उपयोगी लगे तो इसे अन्य लोगों में और सोशल मीडिया जैसे - Whatsapp, Telegram में भी जरूर शेयर करें। और आपकी कोई राय या प्रश्न हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर भेजें - आपके प्रश्नों का जवाब जल्द ही दिया जायेगा। 

लेटेस्ट अपडेट सबसे पहले पाने के लिए आप हमारे व्हाट्सअप और टेलीग्राम चैनल से भी जुड़ सकते है। लिंक नीचे दिया गया है। 

Join Whatsapp Group 

Join Telegram Channel 

ऐसे ही उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप सीधे हमारे वेबसाइट www.onlinebharo.com में विजिट कर सकते है। इसे आप सीधे गूगल में सर्च करके यहाँ पहुँच सकते है। धन्यवाद 

ये आर्टिकल भी पढ़ें 

Post a Comment

1 Comments