शाला अनुदान की राशि और उपयोग - उपयोगिता प्रमाण पत्र क्या है और कैसे भरें ? Shala Anudan Amount Aur UC

School Grant Uses And Utility Certificate 

राज्य में संचालित सभी प्राथमिक ,पूर्व माध्यमिक ,हाई और हायर सेकेंडरी स्कूलों को प्रतिवर्ष विभिन्न मदों में राशि प्रदान की जाती है। ये राशि सीधे स्कूल के खाते में जमा  होती है। इस राशि का उपयोग नियमानुसार विभाग के निर्देशनुसार खर्च किये जाते है। 

आज के आर्टिकल में स्कूलों को मिलने वाली अनुदान राशि के बारे में जानकारी दिया गया है। साथ ही  को उपयोग कैसे और कहाँ किया जाता है और उपयोग किये गए राशि की उपयोगिता प्रमाण पत्र कैसे भरें इसकी पूरी जानकारी बताया गया है। 

यदि  आप भी शासकीय स्कूल में शिक्षक या किसी अन्य पद में कार्य करते है तो आपको ये आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। तो चलिए फ्रेंड्स आपको शाला अनुदान की राशि और उसके उपयोग के बारे में बताते है। 

क्या है शाला अनुदान की राशि 

शाला अनुदान की राशि (school grant amount ) वह राशि है जिसे विभाग द्वारा प्रतिवर्ष स्कूलों को दिया जाता है। ये राशि विभिन्न मद में विभाजित करते  स्कूलों के खाते में जमा  करा दिए जाते है। स्कूलों द्वारा समिति की बैठक में प्रस्ताव पारित करके राशि आहरण की जाती है और राशि की उपयोग  की जाती है। 

शाला अनुदान राशि एक से अधिक किस्तों में जमा होती है। साथ ही अलग अलग समय में जमा होती है। ये राशि स्कूलों को उनके दर्ज संख्या के आधार पर भी दिया जाता है। 

शाला अनुदान की राशि अलग अलग स्कूलों के लिए अलग अलग हो सकती है। क्योंकि कई मदों में राशि बच्चों के दर्ज संख्या के आधार पर जमा होती है। इसके लिए दर्ज संख्या का रेंज तैयार किया जाता है। जैसे - 100 से कम या 100 से ज्यादा। 

शाला अनुदान राशि का उपयोग 

स्कूलों को प्राप्त राशि का उपयोग विभिन्न मदों में नियमानुसार और निर्देशानुसार किया जाता है। राशि उपयोग के पश्चात सम्बंधित फर्म का बिल  बाउचर क्रय किये गए राशि के अनुसार पेस्टिंग फाइल में रखना होता है। 

सभी बिल को शाला प्रमुख द्वारा सर्टिफाई करते हुए Paid & Cancle का सील लगाना होता है। साथ ही राशि आहरण की सत्यता के लिए बैंक पासबुक की एंट्री जरुरी होती है।  अतः सभी शिक्षक इस बात का जरूर ध्यान रखें कि अपने स्कूल के बैंक खाता पासबुक में एंट्री जरूर करा लें। 

कैश बुक में आय व्यय की जानकारी दर्ज करें 

ये भाग बहुत अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि किसी भी विभाग में वित्तीय मामले पारदर्शी होना बहुत जरुरी है। स्कूल की बात करें तो शाला अनुदान की राशि को उपयोग के पश्चात उसका हिसाब किताब रखना अनिवार्य होता है। 

राशि आहरण और खर्च राशि की जानकारी को कैश बुक में दर्ज करना चाहिए क्योंकि विभाग द्वारा शालाओं को दिए गए गए राशि का आडिट कराया जाता है। आडिट कार्य के लिए कैश बुक का होना अनिवार्य है। क्योंकि इसी कैशबुक में आय व्यय का विवरण दिखाया जाता है। 

कैश बुक कैसे भरें इसकी जानकारी हमारे वेबसाइट के माध्यम से बताया गया है। आप वहा से पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है। कैश बुक से सम्बंधित आर्टिकल का लिंक नीचे दिया गया है आप उसमे क्लिक करके पूरा विवरण देख सकते है। 

इसे पढ़ें >> कैश बुक क्या है ? और इसे कैसे भरें - भरे हुए कैश बुक देखें  


सत्र 2020-21 में प्राप्त शाला अनुदान की राशि 


सत्र 2020-21 में स्कूलों लो विभिन्न मदों में राशि प्रदान किया गया था। जिसका उपयोग मद अनुसार आपके द्वारा किया गया होगा। नीचे विभिन्न मदों में प्राप्त राशि का विवरण दिया जा रहा है। 

सत्र 2020-21 में सभी प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक शाला को निम्नानुसार अनुदान राशि प्राप्त हुई है, अनुदान राशि 5 मदों में प्राप्त हुआ है। इन मदों में राशि अलग अलग किस्तों में स्कूलों को जारी किये गए है -जिसका विवरण नीचे बताया गया है। 

यहाँ पर प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक शाला को जारी किये गए शाला अनुदान की राशि का विवरण बताया जा रहा है। जो इस प्रकार है -


(1) शाला अनुदान-  प्रथम किस्त

(A ) 100 से कम दर्ज़ संख्या - ₹ 18500

(B ) 100 से अधिक दर्ज संख्या- ₹37500


(2)  शाला अनुदान -द्वितीय किश्त

(A ) 100 से कम दर्ज़ संख्या - ₹ 6250

(B) 100 से अधिक दर्ज संख्या- ₹12500


(3) यूथ एवं इको क्लब अनुदान

प्राथमिक- ₹5000

पूर्व माध्यमिक-₹15000


(4) एस एम सी अनुदान- ₹1500


(5) मीडिया एवं कम्युनिटी मोबालाईजेशन -₹ 750

उपयोगिता प्रमाण पत्र 


ऊपर बताये गए राशि का उपयोग स्कूलों द्वारा मद अनुसार किया गया होगा। जिसके लिए उपयोगिता प्रमाण पत्र भी विभाग को दिया जाता है। ये प्रमाण पत्र आप अपने संकुलों में जमा कर सकते है। उपयोगिता प्रमाण पत्र जमा करना अनिवार्य है।  

उपयोगिता प्रमाण पत्र में सम्बंधित मद की प्राप्त राशि ,व्यय किये गए राशि और शेष राशि को सावधानी से भरें। और इस प्रकार भरे हुए उपयोगिता प्रमाण पत्र को मांगे जाने पर प्रस्तुत करें। विभिन्न उपयोगिता प्रमाण पत्र इस प्रकार है -

शाला अनुदान हेतु उपयोगिता प्रमाण पत्र 




यूथ एवं इको क्लब अनुदान हेतु उपयोगिता प्रमाण पत्र 




एस एम सी अनुदान हेतु उपयोगिता प्रमाण पत्र 




मीडिया एवं कम्युनिटी मोबालाईजेशन हेतु उपयोगिता प्रमाण पत्र 




ऊपर बताये गए सभी उपयोगिता प्रमाण पत्र को भरकर अपने स्कूल के शाला प्रबंधन समिति के खाते से मिलान कर लें और संस्था प्रमुख की सील और हस्ताक्षर करने के बाद ही जमा करें। 

राशि आहरण और खर्च का विवरण 31 मार्च की स्थिति में तैयार करें। क्योकि आय व्यय का विवरण वित्तीय वर्ष के अनुसार ही देना होता है। वित्तीय वर्ष की गणना प्रतिवर्ष 01 अप्रैल से 31 मार्च तक किया जाता है। 

आज के आर्टिकल में स्कूलों को मिलने वाली शाला अनुदान की राशि और उसके उपयोग (School grant and its uses ) के बारे में बताया गया है। साथ ही उपयोगिता प्रमाण पत्र के प्रारूप के साथ कैसे भरें इसकी जानकारी दी गयी है। उम्मीद करते है ये जानकारी आपको अच्छा लगा होगा। 

ऐसे ही नए नए और उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे वेबसाइट www.onlinebharo.com में नियमित विजिट करें। यदि आपका कोई सवाल हो तो आप हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज सकते है। जल्द ही आपके सवालों का जवाब दिया जायेगा। 

Post a Comment

2 Comments

  1. सरजी ये जानकारी बतायेंगे,कि हमने खर्च के बाद पैमेंट के लिए चेक 25 मार्च को काट दिया है और सामने वाले पार्टी ने पैमेंट का चेक मई माह में भुनाया है तो हमलों कैशबुक में enrty कौन माह में करेंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने जिस डेट को चेक काटा है उसी डेट को कैश बुक में भरना है सर जी .जैसे आपने 25 मार्च को चेक काट दिया है तो चेक बुक में 25 मार्च ही एंट्री करेंगे .

      Delete