शिक्षकों के वेतन की जानकारी। LB संवर्ग के वेतन की होगी रिकवरी -संविलियन के समय किया गया था गलत वेतन निर्धारण



शिक्षकों के वेतन की जानकारी। LB संवर्ग के वेतन की होगी रिकवरी -संविलियन के समय किया गया था गलत वेतन निर्धारण -देखें पूरी जानकारी 



संविलियन प्राप्त कर चुके शिक्षकों के वेतन की जानकारी आज के इस आर्टिकल में बताया गया है। आज का यह पोस्ट शिक्षक संवर्ग के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। खास कर उन शिक्षकों के लिए जिनका संविलियन हो चूका है ,यदि आप भी संविलियन प्राप्त कर चुके है तो आपको भी ये आर्टिकल पूरा जरूर पढ़ना चाहिए।


हेलो फ्रेंड्स ONLINEBHARO.COM में आपका स्वागत है। आज हम आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण और लेटेस्ट जानकारी आज के आर्टिकल में बताने वाले है। फ्रेंड्स आपको बता दें कि यह जानकारि पूरी खोज खबर करने के बाद तैयार किया गया है।

जैसे कि आपको मालूम ही है कि शिक्षाकर्मियों की बहुप्रतीक्षित मांग संविलियन को बीते वर्ष 2018 में पूरा किया गया था। संविलियन के साथ ही शिक्षाकर्मियों के वेतन में भी वृद्धि हो गयी है। साथ ही पदनाम भी बदल दिए गए है। और संविलियन वाले शिक्षकों को एल बी संवर्ग में रखा गया है।

संविलियन के बाद वेतन निर्धारण कैसे हुआ यहाँ देखें। 



छत्तीसगढ़ में शिक्षाकर्मियों का संविलियन एक ऐतिहासिक समय कहा जा सकता है क्योंकि कई वर्षों के बाद ये संविलियन मिल पाया है। संविलियन होने के बाद शिक्षकों को एक नया संवर्ग में रखा गया है जिसे एल बी संवर्ग नाम दिया गया है। 

संविलियन के बाद वेतन की बात करें तो शिक्षाकर्मियों को संविलियन से पहले शिक्षकों के समतुल्य पुनरीक्षित  छठवां वेतन दिया जा रहा था। और अभी भी जिन शिक्षाकर्मियों  संविलियन नहीं हुआ है उन्हें पुनरीक्षित वेतन ही मिल रहा है। 
संविलियन होने के बाद सातवां वेतन शिक्षकों को मिलना शुरू हो गया है। फ्रेंड्स आपको बताना चाहेंगे कि जब शिक्षाकर्मी 8 वर्ष की सेवा पूर्ण कर लेते है तो उन्हें शिक्षा विभाग में संविलियन कर दिया जाता है और इसके साथ ही उनके वेतनमान को भी अलग से निर्धारित किया जाता है। 

सातवां वेतन मान का निर्धारण शिक्षक पंचायत संवर्ग को मिल रहे पुनरीक्षित वेतन के आधार पर ही दिया जाता है। आपको इसका पूरा गणना आज के इस आर्टिकल में दिया जाएगा। अंत तक जरूर पढ़ें। 

सातवें वेतन में वेतन निर्धारण और मूल वेतन की गणना 



सातवें वेतन में वेतन निर्धारण का विवरण आपको सबसे पहले जुलाई -2018 में निर्धारित वेतन के रूप में यहाँ बताया जा रहा है। फ्रेंड्स जैसे कि आपको मालूम ही है कि जुलाई -2018 में शिक्षाकर्मियों का संविलियन कर दिया गया था। 

संविलियन होने के बाद शासन के निर्देश के अनुसार जुलाई 2018 का वेतन(सातवां वेतन ) अगस्त से मिलना भी शुरू हो गया था। अब आपको जुलाई -2018 में किये गए वेतन निर्धारण के बारे में विस्तार से बताते है। 

सहायक शिक्षक का सातवां वेतन निर्धारण देखें 


सहायक शिक्षक के वेतन के बारे में आपको बताते है। 2018 में संविलियन हुए सहायक शिक्षक में वर्ष 2010 में नियुक्त हुए शिक्षाकर्मी भी शामिल थे यदि उनको जुलाई 2018 में 8 वर्ष पूरा हो गया था। सातवां वेतन में मूल वेतन निर्धारित करने के लिए वर्तमान में प्राप्त छठवें वेतन के मूल वेतन को आधार माना गया। 

जैसे किसी सहायक शिक्षक (2010 बैच ) का मूल वेतन जुलाई 2018 में 7440 +2400 =9840 था  तब  इनका सातवां वेतन का मूल वेतन 9840 में 2.57 का गुणा करके बनाया गया। अर्थात 9840 *2.57 = 25314.5/-  होता है। इस वेतन के लिए सातवां वेतन मैट्रिक्स में मूल वेतन 25300/- है। 

अतः जिस शिक्षाकर्मी को जुलाई 2018 में ठीक आठ वर्ष हुआ था उनका मूल वेतन 25300 रूपये निर्धारित किया गया। और इस मूल वेतन के साथ उस समय निर्धरित महंगाई भत्ता 5% (1265 ) गृह भाड़ा 689 /- मेडिकल भत्ता 200/- अन्य भत्ता 600/- इस प्रकार कुल वेतन = 25300+1265+689+200+600= 28054 /-  होता है। 

इस कुल वेतन  28054 /- में कुछ कटौती भी होता है। जैसे - मूलवेतन + महंगाई भत्ता का योग (26565) का १०% (CPF) = 2656/- और GIS =300 इस प्रकार कुल कटौती = 2956 /- अब कटौती के बाद जो वेतन मिलेगा वह है >>  28054 - 2956 =25098 /- 

इसी प्रकार आप अन्य वर्षों में नियुक्त शिक्षकों के वेतन की गणना और निर्धरण कर सकते है। 

सहायक शिक्षक नियुक्ति वर्ष -2006 का सातवां वेतन में मूलवेतन का निर्धारण  देखें 



जैसे की आपको ऊपर 2018 में ठीक आठ वर्ष पूरा करने वाले सहायक शिक्षक का वेतन निर्धारण के बारे में बताया गया है। अब आपको 2006 में नियुक्त सहायक शिक्षक के सातवें वेतन में मूल वेतन का  निर्धारण कैसे किया गया बताते है। 

जैसे किसी कोई सहायक शिक्षक (2006  बैच ) का है। उनका मूल वेतन जून  2018 में 8370  +2400 =10770 /- था। जुलाई में एक इंक्रीमेंट जोड़कर मूलवेतन 11100/- होता है  तब  इनका सातवां वेतन का मूल वेतन 11100/- में 2.57 का गुणा करने पर  11100 *2.57 = 28527  होता है। इस वेतन के लिए सातवां वेतन मैट्रिक्स में मूल वेतन 28500 /- है। 

अतः जिस 2006 में नियुक्त सहायक शिक्षक  को जुलाई 2018 में  मूल वेतन 28500/-  रूपये निर्धारित होगा । और इस मूल वेतन के साथ उस समय निर्धरित महंगाई भत्ता 5% (1425) ,गृह भाड़ा = 777 /- मेडिकल भत्ता 200/- अन्य भत्ता 600/- इस प्रकार कुल वेतन = 28500 +1425  +777 +200+600= 31502 /-  होता है। 

इस कुल वेतन  31502 /- में कुछ कटौती भी होता है। जैसे - मूलवेतन + महंगाई भत्ता का योग (29925 /-) का 10% (CPF) = 2992 /- और GIS =300 इस प्रकार कुल कटौती = 3292 /- अब कटौती के बाद जो वेतन मिलेगा वह है >> 31502 - 3292 = 28210 /- होता है। 

सातवां वेतन निर्धारण गलत किया गया (2006 बैच )



2006 में नियुक्त सहायक शिक्षक का  जुलाई 2018 में सातवां वेतन का मूल वेतन 28500/- के स्थान पर 29400 /- निर्धारित किया गया। जिससे 900 रूपये अधिक मूल वेतन मिल रहा है।ऊपर आप सही वेतन देख सकते है। आगे आपको बताते है वेतन में अंतर् किस प्रकार से है। और कैसे गलत वेतन निर्धारित किया गया था।   

जुलाई 2018 में (स.शि.2006 ) को इतना वेतन दिया गया  👇 


2006 में नियुक्त सहायक शिक्षक  को जुलाई 2018 में  मूल वेतन 28500/- के स्थान पर 29400 रूपये निर्धारित किया गया था अतः इस मूल वेतन (29400/-) के साथ उस समय निर्धरित महंगाई भत्ता 5% (1470 /-) ,गृह भाड़ा = 777 /- मेडिकल भत्ता 200/- अन्य भत्ता 600/- इस प्रकार कुल वेतन=29400+1470 +777 +200+600= 32447  /- यह कुल वेतन है। 

इस कुल वेतन 32447  /- में कुछ कटौती भी हुआ  है। जैसे - मूलवेतन + महंगाई भत्ता का योग (30870 /-) का 10% (CPF) = 3087 /- और GIS =300 इस प्रकार कुल कटौती = 3387 /- अब कटौती के बाद जो वेतन मिला  वह है >> 32447 - 3387  = 29060  /- होता है। यह वेतन जुलाई 2018 का है जो अगस्त 2018 में मिला।

इस प्रकार 2006 में नियुक्त सहायक शिक्षक को प्रतिमाह 945 रूपये अधिक मिल रही है। इस टेबल से आप 1998 से 2010 के बीच नियुक्त सहायक शिक्षक के वेतन निर्धारण देख सकते है।  


 लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए -whatsappGroup ज्वाइन करें
वेतन से होगी रिकवरी -यहाँ देखें कितनी रिकवरी होगी 👇



सहायक शिक्षक 2006 बैच के वेतन निर्धारण गलत किया गया है। जिसका पूरा गणना आपको ऊपर बताया गया है और अब आप समझ गए होंगे की आपके वेतन में कितना का अंतर् आ रहा है। यदि बताये गए गणना के अनुसार आपको किसी भी सहायक शिक्षक को अधिक वेतन मिल रहा है तो उसका रिकवरी होना तय है। 

फ्रेंड्स आपको ये जानना जरुरी है कि कभी भी आफिस से वेतन निर्धारण किया जाता है तो कोषालय से उसका मार्गदर्शन जरुरी होता है और मार्गदर्शन सही होना भी जरुरी है। यदि वेतन या वित्तीय मामले में किसी भी प्रकार की कोई अनियमितता है तो भविष्य में उसका हिसाब होना भी तय होता है।

 लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए -whatsappGroup ज्वाइन करें

2006 बैच वाले सहायक शिक्षक को एक इंक्रीमेंट अधिक मिल रहा था और इस प्रकार जुलाई 2018 से नवंबर 2018 तक अ भी ये एक इंक्रीमेंट (वेतन वृद्धि ) अधिक मिल रहा है जिसका रिकवरी विभाग द्वारा किया जायेगा। कुछ जगह वेतन में कटौती होना शुरू हो भी गया है। 

निष्कर्ष :- आज के इस आर्टिकल में संविलियन के बाद शिक्षक संवर्ग (एल बी) के वेतन निर्धारण के बारे में बताया गया है। साथ ही आज के आर्टिकल में जिन सहायक शिक्षक को अधिक वेतन मिल रहा है उसकी जानकारी भी बताया गया है। 

वेतन निर्धारण से सम्बंधित किसी प्रकार की कोई कन्फूजन हो या कोई अन्य जानकारी लेना हो तो कमेंट में जरूर लिखें।आपकी पूरी सहायता की जाएगी। ये महत्वपूर्ण जानकारी अपने अन्य साथियों में भी जरूर शेयर करें।

शिक्षकों से सम्बंधित ये जानकारी भी पढ़ें 

👉छात्रवृत्ति (Scholarship) की ऑनलाइन एंट्री कैसे करें यहाँ से प्राप्त करें पूरी जानकारी

👉शिक्षकों की वरिष्ठता सूचि की पूरी पूरी जानकारी यहाँ से प्राप्त करें  

Post a Comment

2 Comments

  1. Jyada vetan mil raha hai uska khayal aa gaya aur vetan visa gati ke karan kam vetan mil raha hai uska khayal nahi aa raha hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सभी जानकरी इस चैनल से दिया जता है महोदय ,,,वेतन विसंगति ,पदोन्नति ,क्रमोन्नति ,समयमान ये सभी बताया गया है .

      Delete